हरियाणा किसान सभा ने दिल्ली में किसानों पर की गई पुलिस बर्बरता के विरुद्ध रोष जाहिर करते हुए मोदी सरकार को तानाशाही सरकार करार देते हुए संयुक्त किसान मोर्चा के किसान नेताओं पर देशद्रोह व यूएपीए के तहत दर्ज मुकदमों को रद्द करने की मांग की है। सिरसा में हरियाणा किसान सभा की बैठक डॉ सुखदेव सिंह जम्मू की अध्यक्षता में संपन्न हुई। इस बैठक में 26 जनवरी को सरकार द्वारा प्रायोजित हिंसा की निंदा की गई। वरिष्ठ किसान नेता कामरेड स्वर्ण सिंह विर्क ने कहा कि लाल किले पर आरएसएस द्वारा धार्मिक झंडा फहरा कर किसान संगठनों को बदनाम करने की साजिश अब जनता समझ चुकी है। हरियाणा किसान सभा द्वारा दीप सिद्धू को तुरंत गिरफ्तार करने की मांग की व उस पर सरकार से मिलीभगत कर किसान आंदोलन को तोडऩे का आरोप भी लगाया गया। किसान नेताओं ने कहा कि किसान मोर्चा सरकार की नीयत का पर्दाफाश करेंगे। हरियाणा किसान सभा के नेता रोशन सुचान ने कहा कि जब तक कृषि कानून रद नही होते व संसद में एमएसपी कानून नही बनता तब तक किसान आंदोलन जारी रहेगा। किसानों को सिरसा से दिल्ली भेजा जाएगा। गांव- गांव में महापंचायत की जाएगी। दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पर के नेतृत्व में जल्द ही एक कैंप लगाया जाएगा जिसमें किसानों के रात्रि विश्राम व लंगर का भी प्रबंध किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार लोकतंत्र का गला घोटकर इंटरनेट को बंद कर रही है। सरकार के खिलाफ संघर्ष तेज किया जाएगा।

ByToday Post TV

Jan 31, 2021

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *